2021 में नया घर खरीदने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

महामारी ने हम सभी को हमारी रेगुलर आदतों को बदलने के लिए मजबूर किया है। इसमें ग्लोबल लेवल पर कॉरपोरेट से लेकर होम ऑफिस में काम करने की आदतों में बदलाव शामिल हैं। अब वर्क फ्रॉम होम एक न्यू नॉर्मल बन गया है।

महामारी से पहले के समय की तुलना में अब लोग घर खरीदने में अधिक दिलचस्पी ले रहे हैं, क्योंकि अब सभी को काम करने, स्टडी करने या अपने पैशन को डेवलप करने के लिए अपने खुद के प्लेस की जरूरत है। पिछले 15 साल में सबसे कम ब्याज दरें, डेवलपर्स द्वारा दिए जा रहे छूट और ऑफ़र और सबसे महत्वपूर्ण बात स्टैम्प ड्यूटी पर सरकार का ऑफर हाल के दिनों में बहुत से लोगों को घर की खरीदारी के लिए तैयार कर रहा है।

1 BHK में रहने वाले लोग इन दिनों 2BHK और 3BHK में शिफ्ट होने के बारे में सोच रहे हैं। जबकि आप नया घर लेने के बारे में सोच रहे हैं, तो ऐसे बहुत से फैक्टर हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखने की जरूरत है। खुद का घर खरीदते समय प्लेस, आर्केटैक्चर, इंफ्रास्ट्रक्चर, ग्रीन ओपन स्पेस, फैसिलिटी आदि कई चीजों के बारे में सोचना जरूरी होता है।

Tanuja & Associates की फाउंडर और इंटीरियर डिजाइनर तनूजा राणे बता रही हैं यहां कुछ बातें जिन्हें आपको नया घर खरीदते वक्त अपने ध्यान में जरूर रखना चाहिए-

कम्पैटिबल लेआउट

अहम फैक्टर जैसे कमरे का लेआउट और फैमिली साइज के अनुसार ये फिट बैठते हैं या नहीं, यह जानना जरूरी है। अगर आपकी फैमिली में टीनएज बच्चे हैं तो उन्हें अपना प्राइवेट स्पेस रखना पसंद होगा। ऐसे में, ऐसा लेआउट प्लान देखें जिसमें लिविंग एरिया का साइज परफेक्ट हो, साथ ही किचन और बेडरूम के साइज पर भी ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

सही तरीके से लाइट और वेंटिलेशन होने के साथ फ्लोरिंग भी अच्छी होनी चाहिए। कुछ खरीदारों के लिए वास्तु के अनुरूप बना फर्श भी आवश्यक होता है। कमरों का साइज और अटैच्ड बाथरूम, विंडो, एसी यूनिट को फिक्स करने के लिए फिटिंग आदि नए घर को खरीदते वक्त जरूरी डिटेल होती हैं जिन पर ध्यान रखना चाहिए।

लिविंग रूम

लिविंग रूम को आपके घर का दिल माना जाता है, जहां परिवार कई अलग-अलग कामों के लिए इकट्ठा होते हैं जैसे कि टीवी देखना, गेट-टुगेदर, फैमिली डिसकशन आदि। इसलिए घर का लेआउट देखते वक्त यह ध्यान में रखें कि घर के अन्य हिस्सों की तुलना में लिविंग रूम बड़ा हो, और यह पूरे घर के सेंटर में होना चाहिए ताकि सभी अन्य जगहों से यहां पहुंचना सुविधाजनक हो।

किचन

रसोई के लेआउट को ध्यान में रखना बहुत महत्वपूर्ण है ताकि आपकी रसोई में एक प्रैक्टिकल वर्किंग स्पेस हो। चाहे किचन बड़ा हो या छोटा, एक स्मार्ट लेआउट स्पेस को बढ़ाने में मदद करता है। एक आइडियल किचन लेआउट में समानांतर प्लेटफ़ॉर्म होने चाहिए, जो प्लेटफ़ॉर्म के नीचे के साथ-साथ ओवरहेड में भी पर्याप्त स्टोरेज देते हैं। अगर एल या यू आकार के प्लेटफ़ॉर्म होते हैं तो काफी स्पेस कम हो जाता है क्योंकि कॉर्नर की वजह से स्पेस कभी-कभी बर्बाद हो जाती हैं।

बेडरूम

बेडरूम में अच्छी रोशनी और वेंटिलेशन होनी चाहिए, और ऐसा करने के लिए, कमरे में अच्छी बड़ी खिड़कियां होने की जरूरत होती है। बड़ी खिड़कियों से अच्छी ताजी हवा आती है। यह भी ध्यान दें कि बेडरूम का आकार कम से कम 10′-0 “x 14′-0” होना चाहिए, ताकि बिस्तर के चारों ओर ड्रेसिंग और अलमारी के लिए जगह हो, साथ ही स्टडी टेबल के लिए एक अच्छा कॉर्नर मिल जाए। वर्क फ्राम होम के टाइम में एक स्टडी टेबल के लिए जगह होना बहुत जरूरी है।

बाथरूम

बाथरूम लेआउट देखते वक्त “थ्री इन ए रॉ” कॉन्सेप्ट (शावर एरिया, टॉयलेट सीट और बेसिन काउंटर) को ध्यान में रखें। इससे आपको बाथरूम में कम्फर्टेबल स्पेस मिल जाता है। एक बाथरूम के लिए आइडियल साइज 5’-0” X 8’0” (40 sqft) है। बाथरूम में डक्ट की दीवार पर एक खिड़की होनी चाहिए। बाथरूम में सूखा और गीला एरिया अलग होना चाहिए। सूखे और गीले एरिया के फर्श में थोड़ा ऊंचाई का अंतर करना और शावर ग्लास को सेपरेट करके सूखे और गीला एरिया को अलग किया जा सकता है इससे आपको बाथरूम को हमेशा सूखा रखने में मदद मिलेगी।

हम आशा करते हैं कि आपको यह लेख पसंद आया होगा। अगर आप किसी विषय पर हमसे कुछ पूछना चाहते हैं तो हमें आपके सवालों के जवाब देने में खुशी होगी। आप हमें अपने सवाल कमेंट बॉक्स में लिख सकती हैं।

Publication – Idiva Hindi

Date: 5th March 2021

Share :
Facebook
Twitter
Pinterest
LinkedIn
Instagram